नगर निगम के बारे में जानिये

नगर निगम छिंदवाड़ा 05 सितंबर 2014 को निगम के रूप में अस्तित्व में आया। इसमें कुल 48 वार्ड हैं और कुल क्षेत्रफल 110 वर्ग कि.मी. है। 2011 जनगणना अनुसार इसकी कुल जनसंख्या 2,15,843 है। छिंदवाड़ा शुरू से ही एक स्वच्छ और नियोजित शहर रहा है। इसमें बहुत सारी ग्रीन बेल्ट और कई पर्यटन स्थल हैं जैसे धरमटेकड़ी, भरतदेव, करबोह बांध और बादल भोई आदिवासी संग्रहालय आदि हैं।

वर्ष 2014 से यहां स्वच्छ भारत मिशन कार्य कर रहा है, इस मिशन के तहत घर-घर से कूड़ा-कचरा संग्रहण एवं उसका प्रभावी एवं वैज्ञानिक निस्तारण एवं प्रबंधन नियमित रूप से किया जा रहा है। छिंदवाड़ा को खुले में शौच मुक्त (ओडीएफ) बनाने के लिए कुल 10,552 व्यक्तिगत घरेलू शौचालय बनाए गए हैं। 31 दिसंबर 2016 को छिंदवाड़ा को महापौर द्वारा ओडीएफ घोषित किया गया है। निरीक्षण और निरीक्षण के बाद क्वालिटी काउंसिल ऑफ इंडिया (क्यूसीआई) ने भी छिंदवाड़ा को ओडीएफ घोषित कर दिया है। स्वच्छ भारत मिशन के तहत छिंदवाड़ा में स्कूलों, स्लम क्षेत्रों, गांवों और नियोजित कॉलोनियों में विभिन्न जागरूकता अभियान और कार्यक्रम आयोजित किए गए हैं ताकि छात्रों और अन्य निवासियों को उनके जीवन में महत्वपूर्ण व्यवहार परिवर्तन लाने के लिए स्वच्छ और स्वच्छ गतिविधियों के लिए जागरूक किया जा सके। कई कठपुतली शो, नुक्कड़ नाटक और संगोष्ठी का आयोजन किया गया। बैनर पोस्टर और वॉल पेंटिंग के माध्यम से लोगों को घर में सूखा और गीला कचरा अलग-अलग इकट्ठा करना सिखाया गया। शेष कचरे से पॉलिथीन को अलग करने के लिए यहां एक पृथक्करण मशीन (फटका मशीन) स्थापित की गई है।  

स्वच्छ सर्वेक्षण 2017 में छिंदवाड़ा शहर ने अखिल भारतीय स्तर पर कुल मिलाकर 53वीं रैंक हासिल की है। स्वच्छता एप डाउनलोड करने और उस पर शिकायतें प्राप्त करने में उसे 23वां स्थान मिला है। 

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत, हाउस फॉर ऑल (एएचपी) 1128 ईडब्ल्यूएस और 36 एलआईजी समाज के आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए कुल 1160 घर बनाए गए हैं। इनमें से 960 आवासों का वितरण मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा 3 जून 2017 को पात्र हितग्राहियों को कर दिया गया है। कुल रू0 10532.16 लाख सभी के लिए आवास परियोजना हेतु प्रस्तावित है। अमृत के तहत जल क्रय योजना अंतर्गत 75.00 करोड़ की लागत से स्वीकृत की गई है।यू.आई.डी.एस.एस.एम.टी के तहत सड़क एवं जल निकासी फेज 1 एवं 2 की योजना 48.45 कि.मी. रोड ड्रेनेज डिवाइडर, 4.2 कि.मी. सीसी रोड एवं 51.64 कि.मी. लम्बा ड्रेनेज कार्य का निर्माण किया गया है। वर्ष 2016-17 में विश्व बैंक के सहयोग से 17482.00 लाख की लागत से सीवरेज परियोजना स्वीकृत की गई है। 576.00 लाख की लागत से छोटा तालाब संरक्षण एवं सौन्दर्यीकरण की परियोजना भी स्वीकृत की जा चुकी है, कार्य प्रगति पर है। खजरी रोड के रेलवे क्रॉसिंग पर 2436.00 लाख रुपये की लागत से रेलवे ओवर ब्रिज (आरओबी) प्रस्तावित है, प्रक्रिया 576.00 लाख रुपये की लागत से खजरी चौक से लालबाग से छोटा तालाब तक का मॉडल रोड भी प्रस्तावित है। और विशेषज्ञ लोग। जल्द ही छिंदवाड़ा आधुनिक शहर का आदर्श रूप लेगा। हाल ही में छिंदवाड़ा के मास्टर प्लान को भी मंजूरी दी गई है जो छिंदवाड़ा के विकास पथ में मील का पत्थर साबित होगा।